Adsense Ad Limit क्यों लगता है और कैसे Ad Limit को हटाए?

एडसेन्स (Adsense) ऑनलाइन अर्निंग (earning) का सबसे बड़ा साधन (Source) है और इसे दुनिया भर के यूट्यूब चैनल्स और वेबसाइट के लिए इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन ब्लॉग्स और वेबसाइट की संख्या हर दिन बढ़ती जा रही है और साथ ही साथ कम्पटीशन भी बढ़ता जा रहा है। पहले एडसेन्स किसी भी पोस्ट्स और ट्रैफिक सोर्स के लिए एड्स रन करता था लेकिन अब ऐसा नहीं है। गूगल ने रैंकिंग के साथ साथ एडसेन्स में भी काफी इम्प्रूवमेंट किया है जिसकी वजह से Ad Limit की प्रॉब्लम आती है।

इस पोस्ट के माध्यम से हम उन सभी बातों के बारे में जानेंगे जिसकी वजह से Ad Limit की समस्या होती है। इसके अलावा हम ये भी जानेंगे की कैसे इन प्रॉब्लम से बचा जा सकता है और कैसे Ad Limit की प्रॉब्लम को ठीक किया जा सकता है? तो सबसे पहला सवाल है की एडसेन्स किस वजह से Ad Limit लगता है?

Adsense Ad Limit क्यों लगता है

शुरुआत में एडसेंस ऐसे एकाउंट्स को disable कर देता था जिनपे इनवैलिड क्लिक्स होते थे लेकिन गूगल एडसेन्स ने इसको काफी हद तक सुधारा है और ऐसे केसेस में अकाउंट को डिसएबल करने के बजाय अड़ लिमिट लगा देता है। इसके अलावा भी कई कारण है जिसकी वजह से Ad Limit की समस्या होती है।

Adsense के Ad Limit लगाने के निम्न कारण हो सकते है:

  1. इनवैलिड क्लिक्स (Invalid Clicks)
  2. इनवैलिड ट्रैफिक सोर्स (Invalid Traffic Source)
  3. ख़राब कंटेंट क्वालिटी (Poor Content Quality)
  4. डुप्लीकेट कंटेंट (Duplicate Content)

इनवैलिड क्लिक्स (Invalid Clicks) क्या है?

कई बार ऐसा होता है की कोई व्यक्ति जान बुझ कर Ads पर क्लिक करता है या फिर कई पब्लिशर भी अपने रेवेनुए को बढ़ाने के लिए ऐसा करते है। इस स्थिति में  एडसेन्स इन चीज़ो को नोटिस करता है और अगर ये क्लिक्स रेगुलरली होते है तो Ads को लिमिटेड कर देता है जिसके वजह से वेबसाइट या ब्लॉग पर Ad चलना बंद हो जाती है।

इनवैलिड ट्रैफिक सोर्स (Invalid Traffic Source) क्या है?

जब आपकी वेबसाइट पर आर्गेनिक ट्रैफिक को छोड़ कर किसी एक सोर्स जैसे सोशल या डायरेक्ट ट्रैफिक आता है तो गूगल ऐसे ट्रॅफिक्स को इनवैलिड काउंट करता है और ऐसे पोस्ट्स या पेज पर Ad दिखाना बंद कर देता है।  इसके अलावा कई बार गूगल इस तरह की वेबसाइट को ad limit का नोटिस भेज देता है।

ख़राब कंटेंट क्वालिटी (Poor Content Quality) क्या है?

ख़राब कंटेंट क्वालिटी का मतलब होता है जो गूगल को किसी काम का नहीं लगता और यूजर भी ऐसे कंटेंट को पसंद नहीं करते या फिर कई बार लोग Nudity एडल्ट और पोर्नोग्राफी टाइप के कंटेंट भी पब्लिश करते है जिनकी वजह से Ad Limit लग जाती है।

डुप्लीकेट कंटेंट (Duplicate Content) क्या है?

आज कल कॉपी पेस्ट जैसी चीजे बहुत ही आसान हो गई है। लोग ओरिजिनल से ज्यादा कॉपी करना पसंद करते है और बहुत से ब्लॉगर इसे रेकमेंड भी करते है लेकिन किस भी कंटेंट को कॉपी करना थोड़े दिनों बाद महंगा पड़ने लगता है और धीरे धीरे गूगल उन वेबसाइट को स्पैम मार्क कर देता है और इसके अलावा एडसेन्स डुप्लीकेट कंटेंट पर दिखाना  पसंद नहीं करता और Ad Limit जैसे नोटिस चिपका देता है।

गूगल एड एक्सचेंज क्या है Google Ad Exchange Kya Hai

Adsense Ad Limit को कैसे हटाए?

आपने ऊपर दी गयी चीज़ो को पढ़ कर जान लिया होगा की क्यों AdSense Ad Limit लगता है लेकिन अब हम जानेंगे के इसको ठीक कैसे करे और Ad Limit को कैसे हटाए?

एडसेन्स पहले से काफी समझदार हो चूका है इसलिए वो अद्सेंसे एकाउंट्स को इनवैलिड क्लिक्स या इनवैलिड ट्रैफिक के लिए डिसएबल नहीं करता बल्कि अड़ लिमिट लगा देता है और ऐसा इसलिए क्यों की कई बार लोग जान बुझ कर एड्स पर क्लिक्स कर देते है जिसमे पब्लिशर का कोई दोष नहीं होता या फिर उसे पता भी नहीं होता

  1. तो इस स्थिति में आपको अपने Ads को ऑटो कोड के साथ प्लेस कर के छोड़ देना है और कुछ टाइम तक वेट करना है जिससे एडसेन्स ऑब्सेर्वे कर सके की क्लिक्स नार्मल है। इसके अलावा क्लिक फ्रॉड प्लगिन्स का इस्तेमाल कर सकते है जिससे आपको थोड़ी हेल्प मिलेगी।
  2. इसके अलावा जिन लोगो पर Ad Limit लगा हो वो दूसरे Ad नेटवर्क को यूज़ कर सकते है। जो आपकी वेबसाइट पर Google Ad Exchange  के Ads को दिखते है। Recommended Ad Network: अभी Signup करें      
  3.  जिन वेबसाइट पे सिर्फ सोशल ट्रैफिक है वो पूरी कोशिश करें की उनकी वेबसाइट गूगल में रैंक हो जाये और उनके पोस्ट अच्छे क्वालिटी के हो और आर्गेनिक ट्रैफिक भी लेन की कोसिस करें।
  4. जो लोग एडल्ट या फिर Nude कंटेंट लिखते हो वो लोग किसी और Ad नेटवर्क को यूज़ करे जो न्यूड एडल्ट या फिर पोर्नोग्राफी टाइप के कंटेंट की Ads दिखते हो।
  5. डुप्लीकेट कंटेंट का यूज़ न करें क्योंकि कई बार आपकी वेबसाइट को गूगल की तरफ से पेनल्टी मिल सकती है और साथ ही रैंकिंग और Ad लिमिट दोनों ही आपके वेबसाइट की लाइफ खत्म कर सकती है। तो कंटेंट को अपने अनुसार लिखिए। फैक्ट्स के अलावा कुछ भी कॉपी न करें।

तो दोस्तों ये था कुछ इनफार्मेशन Ad Limi के प्रॉब्लम के बारे में और साथ ही साथ कैसे Ad Limit के प्रॉब्लम को resolve करें। उम्मीद करता हूँ ये पोस्ट आप लोगो के लिए हेल्पफुल रही होगी।

Adsense Ad Limit क्यों लगता है